जीएसएलवी-एफ09 / जीसैट-9

जीएसएलवी-एफ09 ने 2230 कि.ग्रा. भार के दक्षिण एशियाई उपग्रह जीसैट-9 को भूतुल्यकाली अंतरण कक्षा (जीटीओ) में प्रमोचित किया। जीएसएलवी-एफ09 अभियान भारत के भूतुल्यकाली उपग्रह प्रमोचन यान (जीएसएलवी) की ग्यारहवीं उड़ान है और स्वदेशी निम्नतापीय ऊपरी चरण (सीयूएस) के साथ लगातार चौथी उड़ान। 2-2.5 टन श्रेणी के उपग्रहों को जीटीओ में अंतःक्षेपित करने के लिए यह यान अभिकल्पित है। जीएसएलवी-एफ09 की कुल लंबाई 49.1 मी. है। भारत के अंतरिक्ष पत्तन सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र शार (एसडीएससी शार) के द्वितीय प्रमोचन मंच (एसएलपी) से मई 05, 2017 को जीएसएलवी-एफ09 का प्रमोचन किया गया था।.

जीएसएलवी-एफ09 का संरूपण, क्रमशः जनवरी 2014, अगस्त 2015 तथा सितंबर 2016 में हुए पिछले तीन अभियानों - जीएसएलवी-डी5, डी6 तथा एफ05 - के दौरान सफलतापूर्वक उड़े यानो के संरूपणों के समान है। जीएसएलवी-डी5 तथा डी6 ने जीसैट-14 तथा जीसैट-6 नामक दो संचार उपग्रहों को सफलता पूर्वक स्थापित किया, जबकि जीएसएलवी-एफ05 ने भारत के मौसम उपग्रह इनसैट-3डीआर को वांछित जीटीओ में स्थापित किया।.

एस-बैंड दूरमिति तथा सी-बैंड ट्रान्स्पांडर जीएसएलवी-एफ09 के निष्पादन मानीटरन, अनुवर्तन, रेंज संरक्षा/उड़ान संरक्षा तथा प्राथमिक कक्षा निर्धारण (पीओडी) को संभव बनाते हैं।