Space physics Laboratary

अंतरिक्ष भौतिकी प्रयोगशाला (एसपीएल)

spl home page1 वीएसएससी के अधीन की अंतरिक्ष भौतिकी प्रयोगशाला (एसपीएल) पृथ्वी के निम्नतर तथा ऊपरी वायुमंडलों, आयनमंडलों और चुंबकमंडलों तथा अद्यतन प्रयोगों के समूह का प्रयोग कर अन्य सौर प्रणाली पिंडों (ग्रह, ग्रहीय उपग्रह तथा धूमकेतुएं), भू-आधारित, जहाज़ तथा वायुयानों, गुब्बारे और रॉकेट वाहित व उपग्रह प्रदायभारों पर आधारभूत एवं अनुप्रयुक्त अनुसंधान करती है। मुख्य विधाएं हैं ऐरोसॉल तथा मौसम प्रणोदन, सीमा स्तर प्रक्रियाएं, संख्यात्मक प्रतिरुपण, ट्रेस गैस और वायुमंडलीय रसायनविज्ञान, सूक्ष्म तरंग संचरण तथा पृथ्वी की सतह व वायुमंडल का सुदूर संवेदन, मध्य वायुमंडल की गतिकी तथा ऊर्जिकी, संवहन एवं मेघ, चुंबकमंडल से संपर्क के साथ मध्यमंडल – निम्न तापमंडल – आयनमंडल में संसाधन तथा युग्मन, भूमध्यरेखीय वायविकी, आयनमंडल व चुंबकमंडल की जांचें, चांद तथा मंगल के एक्सोस्फियर के प्रयोगात्मक अन्वेषण, सूर्य की प्रक्रियाओं की जांच, सौर पवन-ग्रह अन्योन्य क्रियाएं तथा प्रतिरूपण एवं ग्रहीय व धूमकेतु संबंधी उत्सर्जनों का प्रेक्षण। इसरो की विभिन्न योजनाओं के अधीन उपर्युक्त अग्रणी विधाओं में अनुसंधान करने हेतु अभिप्रेरित छात्रों व वैज्ञानिकों के लिए एसपीएल अवसर भी प्रदान करती है।

अध्येता कार्यक्रम (डॉक्टरल फेलोशिप)

एसपीएल को किसी भी समय करीब 35 डॉक्टरल छात्रों से युक्त एक शानदार अध्येता कार्यक्रम है, जो वरिष्ठ तथा अनुभवी वैज्ञानिकों की देखरेख के अधीन कार्य करेंगे। हर वर्ष, जून-अगस्त समयावधि के आसपास वीएसएससी में आयोजित लिखित परीक्षा तथा साक्षात्कार के माध्यम से लगभग 6 कनिष्ठ अध्येताओं (जेआरएफ) को एसपीएल भर्ती देती है। मार्च-अप्रैल के आसपास राष्ट्रीय अखबारों के विज्ञापनों के द्वारा जेआरएफों के लिए ऑनलाइन आवेदन मांगे जाते हैं।

ये पद भौतिकी / अनुप्रयुक्त भौतिकी / अंतरिक्ष भौतिकी / मौसम विज्ञान / वायुमंडलीय विज्ञान या कोई अन्य संबंधित क्षेत्र में एम.एससी या इलेक्ट्रॉनिकी सहित उपर्युक्त विषयों में से किसी एक में विशेषज्ञता के साथ एम.एससी भौतिकी या वायुमंडलीय / अंतरिक्ष / ग्रहीय विज्ञान / अनुप्रयुक्त भौतिकी या संबंधित क्षेत्रों में एम.टेक से युक्त अभ्यर्थियों के लिए हैं। चयनित विद्यार्थियों को पहले पाठ्यक्रम कार्य करना चाहिए और बाद में एसपीएल के किसी वरिष्ठ संकाय की देखरेख में काम करना चाहिए। अनुसंधान के लिए चयनित सभी छात्र छात्रवृत्ति प्राप्त करते हैं, जिसे सर्वाधिक 5 वर्षों तक बढ़ा दिया जा सकता है। एसपीएल की अकादमिक समिति द्वारा आयोजित समीक्षा तथा वीएसएससी द्वारा आयोजित बाहरी समीक्षा में पास होने के बाद हर वर्ष छात्रवृत्ति बढ़ा दी जाती है।.

शोध सहयोगी (पोस्ट-डॉक्टरल अनुसंधान छात्रवृत्ति)

एसपीएल के शोध सहयोगियों को, उनके पीएचडी के शोधपत्र प्रस्तुत करने के बाद, उसके लिए गठित एक केंद्र स्तरीय समिति द्वारा आयोजित साक्षात्कार के आधार पर पीडीएफ का पद दिया जा सकता है। अभ्यर्थी को अनुसंधान प्रस्ताव तथा शोधपत्र प्रस्तुतीकरण प्रमाणपत्र के साथ एक आवेदन प्रस्तुत करना है। यह पीडीएफ साधारणतया 2 साल की अवधि के लिए है, जिसे अपवादी मामलों में एक और वर्ष के लिए बढ़ा दिया जा सकता है।

पीडीएफ का दूसरा प्रकार बाह्य पीएचडी धारकों के लिए है। इस पीडीएफ के लिए सीवी और प्रकाशन सूची के साथ निदेशक, एसपीएल को अनुसंधान प्रस्ताव प्रस्तुत करके वर्ष में किसी भी समय आवेदन दिया जा सकता है। अभिजात-समीक्षा प्रक्रिया द्वारा मूल्यांकितानुसार प्रस्ताव की योग्यता तथा इस उद्देश्यार्थ केंद्र स्तरीय समिति द्वारा आयोजित साक्षात्कार के आधार पर चयन किया जाता है। इस श्रेणी के लिए पीडीएफ पदों की संख्या किसी भी समय पांच तक सीमित है। इन पदों के संबंध में कोई भी जांच निदेशक एसपीएल को निदेशित की जा सकती है।

आगंतुक वैज्ञानिक (वीएस)

एसपीएल को भी एक आगंतुक वैज्ञानिक (वीएस) कार्यक्रम है, जो या तो एडीसीओएस वीएस कार्यक्रम द्वारा या फिर सीधे एसपीएल द्वारा प्रचालित होता है जहां एडीसीओएस आरएफएस (एडीआरईएफ) के समान दिशा-निर्देशों का अनुपालन किया जाता है। ये पद पर्याप्त अनुभव प्राप्त तथा कहीं ओर स्थायी पद धारण करनेवाले वरिष्ठ वैज्ञानिकों के लिए हैं। वर्ष में किसी भी समय निदेशक एसपीएल को आवेदन दिए जा सकते हैं। इन पदों के संबंध में कोई भी जांच निदेशक एसपीएल को निदेशित की जा सकती है।

 

वेबसाइट: http://spl.gov.in