प्रौद्योगिकी अंतरण

प्रमोचन यान विकास के दौरान, कई प्रौद्योगिकियां विकसित हुईं। प्रौद्योगिकी हस्तांतरण के लिए इसरो के जनादेश के आधार पर, जिन परिपक्व प्रौद्योगिकियों का व्यवासायिक या सामाजिक अनुप्रयोग सम्भव है, उनको व्यावसायिकृत करने के लिये उद्योगो को शामिल करने हेतु वीएसएससी द्वारा एक नीति बनाई गयी । जहां भी संभव तथा आवश्यक हो, केंद्र इस प्रकार के प्रौद्योगिकी हस्तांतरण से विकसित उत्पादों को वापस खरीदने का विकल्प भी रखता है। अन्य पक्षों को अनैकांतिक, प्रतिसंहारणीय लाइसेंस प्रदान कर प्रौद्योगिकी हस्तांतरण (टीओटी) किया जाता है, ताकि वे प्रौद्योगिकी का वाणिज्यिक उपयोग कर सकें। बौद्धिक संपत्ति अधिकार वीएसएससी के पास संरक्षित रखा जाता है।

अनुज्ञप्तिधारियों का निर्धारण, उनकी मूल योग्यता, उपलब्ध संसाधन व सुविधाओं के आधार पर तथा व्यापार तंत्र, उत्पादन और विपणन सक्षमता को ध्यान मे रखकर किया जाता है

अधिक ब्यौरों के लिए http://isro.gov.in/isro-technology-transfer/technology-offers पर जायें